पोस्ट

जनवरी, 2021 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

रामचरितमानस

इमेज
रामचरितमानस भगवान राम के चरित्र को शब्दों में बांधने का एक प्रयास है। रामचरितमानस गोस्वामी तुलसीदास द्वारा रचित महाकाब्य है।मानस भारतिय संस्कृति का केवल दर्शन न होकर अपितु संपूर्ण मानवता के लिये एक उच्चादर्श है।मानस के लेखक के अनुसार वही कीर्ति कविता व सम्पति उत्तम है जो गंगा के समान सबका हित करने वाली हो।मानस भक्ति की गंगा है।मानस का एकाग्र अध्ययन ईस्वर स्तुति का एकमात्र स्रोत है।इसके अनुसार दया धर्म का मूल है और पाप का मूल अभिमान है।

भारतीय संविधान का विकास

 भारत का संविधान 26 जनवरी 1950 को लागू हुवा।राष्ट्रीय आंदोलन का मुख्य योगदान संवैधानिक सुधारों सम्बधी प्रस्ताव पास करने से कहीं बढ़कर ठोस राजनीतिक अमल में रहा।संविधान का मूलाधार जनतंत्र की भावना थी।जनता में इस भावना का संचार राष्ट्रीय आंदोलन ने ही किया।इसका प्रतिबिम्ब ब्यापक जन भागीदारी में मिलता है।स्वराज ब्रिटिश पार्लियामेंट द्वारा मुप्त भेट मे नही मिलने वाला था।यह भारत द्वारा एक आत्म घोषणा थी। क्या आप चाहते है कि मैं ज्यादा इन विषयों पर लिखू तो कमेंट करे।

भारतिय राष्ट्रीय आंदोलन की विरासत

इमेज
 "आजादी के बाद का भारत"का अध्य्यन करने के लिए राष्ट्रीय आंदोलन की विरासत को जानना आवश्यक है क्योकि विकास की क्रांति में स्वतंत्रता आंदोलन की जड़े गहरी हैं।1919 के बाद राष्ट्रीय आंदोलन इस विचारधारा के इर्द गिर्द रहा की राजनीति या स्वयं की मुप्ति में आम जनता को शामिल होना चाहिये वरन होना पङेगा।स्वतंत्रता आंदोलन के प्रणेता महात्मा गांधी ने जीवन भर इसी विचारधारा का प्रसार किया कि चाहे सामाजिक क्रांति हो या फिर औपनिवेशिक शासन की जड़े कमजोर करने का जन अभियान हो उसे पूरा करने में  जनता की भूमिका अहम होती हैं न्रेतीत्व की नही तथापि न्रेतीत्व की गुणवत्ता इस प्रयोजन को ,प्रभावित करती है।

भारत मे उपनिवेशवाद की भूमिका

 लम्बे समय से चली आ रही औपनिवेशिक शासन व्यवस्था भारतियो के लिए कुछ बदलाव दे गई।वो बदलाव भारत ने अग्रेजो से सीखे थे।परंतु ये सभी परिवर्तन औपनिवेशिक ढांचे के अंतर्गत हुवे थे अतः अधोगति ही इस परिवर्तन की परिणति सिद्ध हुई।औपनिवेशिक शासन ने कभी भारतीय कृषि पर ध्यान नही दिया।बचे जमीदार लोग तो उनकी मूल रुचि लगान वसूली में थी उन्होंने कभी कृषि विकास की जहमत ही नही मोल ली।भारतीय अर्थव्यवस्था के पीछणेपन का एक कारण शहरी व ग्रामीण निवासीयो के परिमाणात्मक अनुपातीक विषमता थी।

नीति

 नीति कहती है कि अगर धर्म की रक्षा के लिए झूठ बोलना अनिवार्य हो तो मनुष्य को झूठ बोल लेना चाहिए।उस समय झूठ बोलना नीति विरुद्ध नही होगा। नीति कहता है कि अगर कोई आपके शरण मे आता है तो उसे ना न करे भले ही वह आपके गुप्त बातो का पता लगाने के इरादे से ही क्यो न आया हो। छोटा भाई पुत्र के समान होता है व छोटे भाई की भार्या पुत्री के समान होती है। जब विनास का समय आता है तो बुद्धि विपरीत हो जाती है।तुलसीदास जी ने भी लिखा है, "जाको प्रभु तरुण दुःख देहि।ताकि मति पहले हर लेहि।। यदि मंत्री भय के कारण मिथ्या प्रसंशा करता हो तो समझ जाइए की राज्य का सर्वनाश होने वाला है।और यदि वैद्य भय के कारण असत्य बोल रहा है तो शरीर का नाश होना तय है।

मोक्ष

मोक्ष जीवन मरण के चक्र से मुप्ति का नाम है।क्या आप जानते है कि मोक्ष कैसे प्राप्त किया जाता है।मोक्ष प्राप्त करने के लिये भगवत गीता में तीन उपाय बताए गये है। १-ज्ञान मार्ग २-भक्ति मार्ग ३-कर्म मार्ग १-ज्ञान मार्ग-समस्त चराचर सृस्टि में एक ही इन्द्रियों मन बुद्धि से परे ब्रह्म का वास है का ज्ञान मानव को मोक्ष दिलाता है परम शांति दिलाता है।जब मानव सर्वत्र एकसा भाव मे स्थित ब्रह्म देखता है तो सब भेद नष्ट हो जाते है।तभी मानव जन्म मरण के चक्र से मुप्त हो जाता है। २-भक्ति मार्ग-अपनी समस्त कामनाओ पर को नष्ट कर केवल भगवत प्राप्ति की इक्षा करने वाला भी मोक्ष प्राप्त कर सकता है।जिस प्रकार चीनी को पानी मे घोलने पर चीनी का अस्तित्व समाप्त हो जाता है व केवल पानी बचता है।उसी प्रकार नर व नारायण के मिलन से नर का अस्तित्व समाप्त हो जाता है। ३कर्म मार्ग-फल की चिंता किये बिना कर्म करने से अर्थात निष्काम कर्म करने से भी मोक्ष प्राप्त हो जाता है।

Some funny facts कुछ हास्यप्रद तथ्य

 नहाया जाता है स्वथ्य रहने के लिये पर ठंडी में नहाने से स्वास्थ्य खराब होने की सम्भावना होती है फिर भी लोग नहाते हैं।😁😁😁 लोग वाट्सएप पर ज्ञान ऐसे देते है जैसे वो पुराने जमाने के ऋषि मुनि हो।😁😁😁 अगर चाय वाला देश का देश का प्रधानमंत्री हो सकता है तो तो दूध वाले को उपप्रधानमंत्री होना चाहिए।😁😁😁😁

अध्ययन कुशलताये study skill

 पड़ने के लिये कुछ आवश्यक बिन्दुवों पर हम आपका ध्यान आकर्षित करना चाहेंगे। १-पड़ते समय फोन का नोटिफिकेशन न चेक करें। २-अध्य्यन की गुडवत्ता आपके फोकस पर निर्भर करती है।इसलिये पूरा फोकस लगा कर पढे। ३-आपको अपनी स्टडी स्किल इम्प्रूव करने के लिये एक किताब"deep work"पढ़नी चाहिए।यह काफ़ी अच्छी किताब है। ४-जब आप पढ़ने के लिए तैयार हो तो उससे पहले आप खुद को डराओ ऐसा की नही पढ़े तो फेल हो जाओगे या मम्मी पापा की डांट पड़ेगी या कुछ और सोच के अपने को डराओ ऐसा करने से आपका मस्तिष्क पूरी तरह से अवेयर हो जाएगा और जो पढ़ोगे वो आसानी से याद होगा। ५-हार्ड वर्क तो करे पर स्मार्ट वर्क जरूर करे। फिर दुहराना चाहूंगा आप deep work जरुर पढ़े।क्योकि आज के समय मे डीप वर्क दुर्लभ हो गया है।

साकारात्मक विचार

इमेज
१-जो झुक सकता है वो पुरी दुनिया झुका सकता है। २-मन अशांत है इसे वस में करना मुश्किल है पर इसे वैराग्य व निरन्तर अभ्यास से वस में किया जा सकता है। ३-आप अगर प्रशंशा के झूठ व आलोचना के सच जान सकते हो फिर आप अपने जीवन को कुछ बेहतर बना सकते हो। ४-जहा से हम हार मानकर लौट आते है वही से जीत का रास्ता प्रारम्भ होता है। ५-वही कीर्ति कविता व सम्पति उत्तम है जो गंगा के समान सबका हित करने वाली हो। ६-जो लोग आपके लिए गड्ढे खोदते है वही लोग आपको गड्ढे पार करना सिखाते है। ७-यदि सफलता एक फूल है तो विनम्रता उसकी सुगन्ध है। ८-खुद के अलावा किसी दूसरे की सरण में मत जावो-गौतम बुद्ध।

गहरे मनोवैज्ञानिक तथ्य

 जब कोई दूसरा आपको गुदगुदाएगा तो गुदगुदी होगी पर अपने हाथ से गुदगुदाने पर नही होगी क्योंकि आपके मस्तिष्क को पहले से पता है कि आप गुदगुदाने वाले हो इसलिये वह गुदगुदी सहने के लिए पहले ही तैयार रहता है। मनोवैज्ञान यह बताता है कि अधिकांश स्मार्ट लड़के सिंगल है या लव फेलियर है। किसी को ऐसे बिना नाम लिए पुकारने से अच्छा है कि उसे नाम लेकर बुलाये उसे अच्छा लगेगा। जो ब्यक्ति कम बोलता व तेज बोलता है मतलब उसका मस्तिष्क तेज है। किसी के न बुलाने पर भी अपना नाम सुनाई देना स्वस्थ मस्तिष्क की निशानी है।

चिंतन शक्ति को कैसे बढ़ाया जाय?

 सोचने की क्षमता बढ़ाना कौन नही चाहता पर इस विशष पर ईन्टरनेट पर कम ही जानकारी है तो चलिए दृष्टिपात करते है। चिंतन करने से पहले हमें यह पता होना चहिये की सोचना क्या है फिर यह पता करना चाहिए कि क्या जो हमे सोचना  है क्या उसके समरूप कोई दूसरी दूसरा धारणा प्रकृति में उपस्थित है।जैसे यदि आप अद्वैत के बारे में सोच रहे हो तो इसका प्रकृति में सबसे अच्छा उदाहरण यह है कि ऊर्जा पदार्थ में व पदार्थ ऊर्जा में परिवर्तित हो सकता है।समरूप उदाहरण देने से आपका वक्तब्य या लेख आकर्षक हो जाता है।इसे पार्श्व विचार कहते है। जब आप एक शब्द किसी को सुनाते हो तो उसे यह सामान्य लगता है पर जब आप उस शब्द के पीछे एक विशेषण लगा देते हो तो यह लोकप्रिय हो जायेगा जैसे क्रांति एक सामान्य सब्द है पर क्रमिक क्रांति उसके अपेक्षा असामान्य शब्द है।इसी प्रकार "गूढ़ ब्रह्माण्ड"ब्रह्माण्ड से ज्यादा असाधारण है।इसे विशेषण अलंकार कहा जा सकता है। जब आप एक ही बात अन्य सब्दो व वाक्यो व विचारो में दुहराते हो या अलग अलग  दृष्टिकोण से समझाते हो तो यह भी सामने वाले श्रोता को प्रभावित करता है।इसे अर्थानुप्रास अलंकार कहा जा सकता है।